Email और ईमेल के इतिहास के बारे में हिंदी में जाने?

Email: ईमेल के बारे में तो आप सभी जानते ही होगें और आप सभी ने इसका इस्तेमाल भी किया होगा। e-mail के द्वारा आप अपने friends, family members, relative, से digital message के द्वारा बात कर सकते हैं व्यक्तिगत तौर पर यह ज्यादा लोकप्रिय नहीं हैं लेकिन इसका प्रयोग Office Sector में Communication के लिए बहुत अधिक किया जाता हैं। कुछ लोग तो सुबह से शाम तक E-mail में ही लगे रहते हैं।     

पुराने समय में लोग एक दुसरे का हाल-चाल जानने या सूचना भेजने के लिए पत्र या चिठ्ठी का इस्तेमाल करते थे जो डाक द्वारा एक स्थान से दुसरे स्थान भेजी जाती थी और डाकिये द्वारा हम तक पहुचाई जाती थी इस प्रक्रिया में कई दिन लग जाते थे। लेकिन अब ऐसा नहीं हैं आप एक Click में अपनी ईमेल को दुनिया के किसी भी कोने में भेज सकते हो बस आपको सही Email Address पता होना चाहिए।

ईमेल पत्र भेजने का एक आधुनिक रूप है। यह लगभग हर जगह उपयोग किया जाता है चाहे वह घर, कार्यालय स्कूल, उद्योग, बैंक या कोई भी सरकारी या प्राइवेट कार्यालय हो। यहाँ हम ईमेल के बारे में Details में बात करेंगें और जानेगें कि Email kya hai, Email ID kya hai, Email address kya hota hai, और e-mail का इतिहास क्या हैं जिसको पढने के बाद आपको सारे सवालो के जवाब मिल जायेगें।

ईमेल का इतिहास – E-mail History

ई-मेल के इतिहास की बात करे तो Ray Tomlinson को ईमेल का आविष्कारक माना जाता है क्युकी इन्होनें 1971 में पहला ऐसा System बनाया था जो ARPANET के विभिन्न Hosting User के बीच मेल transmit करने में सक्षम था। टॉमलिनसन ने जो पहला ईमेल भेजा था वह एक परीक्षण था इसे संरक्षित नहीं किया गया था और टॉमलिंसन ने इसे QWERTYUIOP” की तरह महत्वहीन बताया। रे टॉमलिंसन ने ही सर्वप्रथम @ चिन्ह का चयन किया। @ Symbol user name को एक destination server से लिंक (link) करता हैं।

Email ID kya hai hindi

जरूर पढ़े :- Email ID कैसे बनाए ?

ईमेल क्या होता है – Email Kya Hai

Email का पूरा नाम हैं Electronic mail. यहाँ आप एक दुसरे को पत्र लिख कर बात करते हैं क्यों कि ये एक Digital Message होता हैं इस लिए E-mail को केवल Electronic Device पर ही लिखा और भेजा जा सकता हैं। E-mail को आप Computer, Laptop, Mobile Phone या Smart Phone किसी पर भी Use कर सकते हैं।

E-mail पर आप Text, Files, Photos, को attachments करके individual या group individual पर e-mail आसानी से भेज कर सकते हैं साधारण भाषा में e-mail या electronic mail एक इंटरनेट के माध्यम किसी कम्प्युटर या अन्य electronic device से पत्र भेजने का एक तरीका है।

ईमेल एड्रेस क्या होता है – Email Address Kay Hota Hai

जिस प्रकार हमें किसी भी पत्र को भेजने के लिए एक पते (address) की जरुरत होती हैं ठीक उसी तरह एक ईमेल को भेजने के लिए भी हमें एक Email Address की आवश्यकता होती हैं जैसे की हमारी website का e-mail address हैं [email protected] कोई भी ईमेल एड्रेस दो चीजों से मिलकर बनता हैं पहला User Name दुसरा Domain Name. यहाँ पर यूजर नाम हैं indiainhindihelp और domain name gmail.com हैं।

जब आप कोई email account बनाते हैं तो उस समय आपको एक यूजर नाम बनाने का Option दिया जाता हैं वह पर आप अपना मन पसंद यूजर नाम बना सकते हैं अगर वो पहले से किसी यूजर द्वारा उपयोग नहीं किया गया हैं तो वो user name आपको दे दिया जाता हैं। ईमेल एड्रेस को Email-ID के नाम से पुकारा जाता हैं।

जरूर पढ़े :- सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में पूरी जानकारी

ईमेल आईडी क्या है – Email ID Kya Hai

वर्तमान समय में ऐसी कई सारी Company है जो Online ईमेल की सुविधा प्रदान करती हैं जहाँ आप अपना E-mail Account बनाकर किसी को भी ईमेल भेज व प्राप्त कर सकते हैं जिनमें Hotmail, Yahoo Mail, Gmail Mail, Rediffmail, बहुत लोक प्रिये हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि आप इन सभी e-mail website पर फ्री (Free) में अपना खाता खोल सकते हैं।

जब आप इनमे से किसी पर भी अपना ईमेल account बनाते है तो आप को अपना एक User name बनाना होता हैं जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया हैं यूजर name के बाद (@) लगा कर आपको कंपनी द्वारा दिया गया Domain name का Use करना होता हैं जैसे कि अगर अपने जीमेल पर अपना खाता बनाया है तो @ के बाद आपको gmail.com लिखना होगा।

और अगर Yahoo पर बनाया हैं तो @yahoo.com या Rediffmail पर है तो @rediffmail.com लिख कर आप अपने e-mail address को पूरा करते हैं और यही आपकी Email ID कहलाती हैं जैसे हमारी website की ईमेल आईडी हैं [email protected]

Email Bhejne Ka Tarika

जरूर पढ़े :- कन्या सुमंगला योजना के बारे में पूरी जानकारी

ईमेल से जुडी कुछ महत्वपूण जानकारी

यहाँ हम आपको E-mail से जुडी कुछ महत्वपूण जानकारी के बारे में बताएगें:

Email Account: किसी भी ईमेल को इस्तेमाल करने के लिए आपके पास एक ईमेल account का होना जरुरी हैं तभी आप एक ईमेल को भेज और प्राप्त कर सकते हैं

Electronic Device: क्युकी ये एक digital message होता हैं इसलिए आपके पास एक Electronic Device का होना जरुरी हैं जिसके माध्यम से आप अपनी ईमेल Send और Received कर सके।

Internet Connection: वेब आधारित ईमेल होने के कारण ईमेल भेजने से लेकर प्राप्त करने और देंखें के लिए आपको एक इन्टरनेट कनेक्शन की जरुरत होगी क्युकी ये सारी चीजें Online होती हैं

Inbox: जब कोई आपको ईमेल भेजता हैं तो वह आपके इनबॉक्स में received होता हैं inbox में आपकी सभी पुरानी ईमेल Show होती हैं जिनको अपने अभी तक Delete नहीं किया हैं।

Sent: इस Option में आपको वो सभी ईमेल show होती हैं जिसे अपने दूसरो को भेजा होगा और वो आपकी sent mail कहलाती हैं यह आप चेक कर सके हैं कि आपके द्वारा भेजी गई e-mail सफलतापूर्वक Send हुई हैं या नहीं

Drafts: जब आप किसी e-mail को Compose कर के अधुरा छोड़ देते हैं और किसी वो ईमेल नहीं भेजते हैं तो वो ईमेल आपकी drafts में जा कर save हो जाती हैं जिस आप बाद में जब चाहे edit करके किसी को भी भेज सकते हैं।

Trans: यह Folder काफी महत्वपूण (Impotent) होता हैं क्युकी यहाँ आपके द्वारा delete की गई सारी ईमेल आकार save होती हैं ऐसे में अगर आपसे कोई महत्वपूण ईमेल डिलीट हो जाती हैं तो आप अपनी के ईमेल के Trans या Delete फोल्डर में जा कर उसे दुबारा प्राप्त (Recover) कर सकते हैं यहाँ ध्यान रखें वाली बात यह है कि अगर अपने 30 दिनों के अन्दर recover नहीं किया तो वो Automatically Delete हो जाएगी।

ईमेल भेजने का तरीका – Email Bhejne Ka Tarika

जीमेल से ईमेल भेजना बहुत ही आसान हैं बस आपको नीचे दिए गये कुछ Step को Follow करना होगा जो निम्नलिखित हैं:

Create Email Account: सबसे पहले आपको अपना एक ईमेल account बनाना होता है जिसे आप gmail, yahoo, rediffmail, etc. किसी पर भी बना सकते हैं और ये बिलकुल फ्री होता हैं

Compose”+”: अब आपको अपना ईमेल account open करना होगा और वह आपको Compose या मोबाइल पर “+” के Icon पर Click करना होगा।

New Message: और अब आपकी Screen पर एक New Window या नया page open होगा जहाँ आप अपना ईमेल दूसरो को भेजेगें

To (Recipients): इस Option में आप Recipients यानि आप जिसको e-mail भेजना चाहते हैं उस व्यक्ति (person) का e-mail address या e-mail id को लिखेगें।

Subject: इस Option में आपको अपनी ईमेल का एक Title लिखना होता हैं कि आपके द्वारा भेजी गई ईमेल किस विषय पर हैं क्युकी जब Recipients को inbox में ईमेल प्राप्त होगी हैं तो सबसे पहले ईमेल का subject ही दिखाई देता हैं।

Text: Text option में आप अपना सन्देश (message) को लिखेते हैं यहाँ आपको Ms Word के सभी option मिलते हैं जिससे आप एक अच्छा message type कर सकते हैं।

Attachments: यहाँ नीचे आपको इस तरह के कई option मिलते हैं जैसे Attach Files, Insert Link, Insert emoji, Insert files using drive, Insert Photo, Insert signature, etc. जिससे आप अपनी file, photo और दूसरी Attachments को ईमेल के द्वारा भेज सकते हैं।

Send: send option पर क्लिक करते ही ईमेल आपकी तरफ से Send हो जाती हैं और Recipients के इनबॉक्स में पहुच जाती हैं।

अगर आप ऊपर बताये गये सभी Option को अच्छी तरह समझ गये हैं तो बहुत आसानी से किसी को भी ईमेल भेज सकते हैं।

Email Likhne Ka Tarika

ईमेल में Cc का क्या मतलब हैं   E-mail me Cc ka Full Form

Cc (Carbon Copy): Cc का Full form होता हैं Carbon Copy. अगर आप किसी एक ईमेल को एक साथ कई लोगो के पास भेजना चाहते हैं तो बस आपको उन सभी व्यक्ति (person) की email-id को Cc के option में जोड़ (add) देना हैं और इस तरह ईमेल एक ही बार में सभी लोगो तक पहुच जाएगी। और Cc से जुड़े सभी लोग यह देख सकते हैं कि ये ईमेल कौन-कौन से ईमेल address पर भेजी गई हैं।

ईमेल में Bbc का क्या मतलब हैं   E-mail me Bbc ka Full Form

Bcc (Blind Carbon Copy): Bcc, To और Cc से बिलकुल अलग होता हैं इसकी Full Form होती हैं Blind Carbon Copy. अगर आप किसी ईमेल को तीन लोगो को भेजते हैं यहाँ आप To option में A और Cc Option में B को और Bbc option में C को रखते हैं तो A और B को यह लगेगा कि ये ईमेल केवल हम दोनों (A और B) को ही भेजी गई हैं। Bcc यानि C को ईमेल भेजने की जानकारी केवल e-mail भेजने वाले को ही होगी।

ईमेल लिखने का तरीका – Email Likhne Ka Tarika

e-mail एक पत्र (digital message) होता हैं तो जिस तरह आप एक सन्देश या प्रार्थना पत्र को एक कागज पर लिखते हैं ठीक उसी तरह आपको ईमेल को भी लिखना होता हैं। यहाँ ये ध्यान में रखना बहुत जरुरी हैं कि आप उस ईमेल को कहाँ पर भेज रहे हैं यदि आप अपने मित्र या सगे सम्बन्धी को ईमेल भेज रहे हैं आप अपने ईमेल को local भाषा में या Friendly language में लिख सकते हैं।

और यदि आप यह ईमेल किसी अधिकारी या Office/Professional के लिए लिख रहे हैं तो आपको यहाँ ध्यान रहना होता कि ईमेल लिखने का तरीका एक प्रार्थना पत्र या application की तरह हो और उसमे एक professional भाषा (language) का इस्तेमाल किया जाना चाहियें जिससे ईमेल पढने वाला आपको अधिक महत्व दे और आपकी E-mail को महत्वपूण समझें।

ईमेल के लाभ और हानियाँ – E-mail Ke Labh Aur Haniyan

ईमेल के लाभ – Advantages

Free Service: ईमेल एक बिलकुल फ्री सेवा हैं इस सेवा को उसे करने में नाम मात्र का ही Internet इस्तेमाल होता हैं

Speed: पुराने समय में एक पत्र को पहुचने में कई दिन या महीने लग जाते थे लेकिन अब ऐसा नहीं हैं आज e-mail सेवा के द्वरा आप मिनटों में अपने पत्र को digital message के द्वरा कही भी भेज सकते हैं।

Time: यहाँ आप एक ही ईमेल को एक साथ कोई लोगो को भेज सकते हैं और हाथ से लिखने के काफी समय लगता हैं जबकि Type करने में हाथ से लिखने की अपेछा बहुत कम समय लगता हैं

Easy Access: ईमेल को आप किसी भी Electronic Device जैसे कंप्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल, स्मार्ट फ़ोन पर कभी भी और कही से भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

Record: यहाँ आपको खुद से रिकॉर्ड रखने की जरुरत नहीं होती हैं क्युकी आप जब भी चाहे अपने ईमेल खाते को खोल कर अपने ईमेल का Record चेक कर सकते हैं।

Attachments: ईमेल के द्वारा आप बहुत आसानी से अपने Video, Photo, Audio, Files, Documents को online Share कर सकते हैं।

ईमेल के हानियाँ – Disadvantages

Electronic Device: क्युकी ईमेल एक digital message हैं इस लिए आपको इसका इस्तेमाल करने के लिए किसी न किसी electronic device की जरुरत पड़ती हैं

Internet: वेब आधारित ईमेल होने के कारण आपको इसके इस्तेमाल के लिए इन्टरनेट की जरुरत होती हैं क्युकी बिना internet के आप इसका प्रयोग नहीं पायेगें।

Offline Data: ईमेल एक ऑनलाइन सर्विस हैं इस लिए आपके कंप्यूटर या मोबाइल पर इसका कोई भी offline डाटा उपलब्ध नहीं होता हैं।

Limitation: यहाँ आपको Upload option में limit डाटा upload करने का option मिलता हैं Gmail में upto 25MB तक upload कर सकते हैं कुछ ईमेल company में आप Maximum 10 Mb तक का ही upload कर सकते हैं।

Format Support: ईमेल में uploading करते समय ज्यादातर Format supportable होते हैं लेकिन कुछ Format है तो अभी भी Not supportable होती हैं इसका मतलब आप उन files को अपनी ईमेल पर upload नहीं कर पायेगें।

Reader Confirmation: कई बार ऐसा होता हैं कि हम किसी को ईमेल send करते हैं और हमारी तरफ से ईमेल send success होने के बाद भी हमें ये पता नहीं चलता हैं की Recipients के द्वरा हमारी mail को पढ़ा गया हैं या नहीं और हम उनके उत्तर का इंतिजार करते रहते हैं।

हमने क्या सीखा?

यहाँ हमने आपको Email kya hai Hindi और E-mail के इतिहास के बारे में बताया हैं और यह प्रयास किया है कि अगर आप इस पोस्ट को पढ़ते तो आपको ईमेल से सम्बंधित सभी प्रश्नों का उत्तर अवश्य मिल जाए। इसके अतिरिक्त ईमेल से जुडी कुछ महत्वपूण जानकारी और ईमेल में इस्तेमाल होने वाले सभी जरुरी Option के बारे में विस्तार से बताया गया हैं और साथ ही Email लिखने व ईमेल भेजने का तरीका भी बताया गया अगर फिर भी आपके मन में ईमेल को लेकर कोई सवाल हैं तो आप हमे Comment कर सकते हैं हमारा पोस्ट पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद! जय हिंदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *